ट्रोल हुईं ये प्लेयर, लोगों ने कहा- मां चीनी हैं इसलिए करती हैं मोदी का विरोध

हमेशा हेडलाइन्स में रहने वाली बैडमिंटन प्लेयर ज्वाला गुट्टा एक बार फिर से चर्चा में हैं। इस बार अपने एक ट्वीट को लेकर सोशल मीडिया पर वे छाई हुई हैं। दरअसल ट्विटर पर एक यूजर ने नरेंद्र मोदी के खिलाफ उनके स्टैंड को लेकर एक सवाल किया था। बात इतनी बढ़ गई कि यूजर ने उनकी मां को चीनी कह दिया। इस बात को लेकर वे बहुत नाराज हो गईं। ज्वाला की मां येलन गुट्टो चीन की हैं, जिनकी शादी तेलगांना के क्रांति गुट्टा से हुई थी। यूजर और ज्वाला के बीच हुई तीखी बहस…

– ज्वाला गुट्टा उस समय एक युजर से भिड़ गईं जब उसने ज्वाला की मां को चाइनीज बोल दिया। दोनों के बीच इसको लेकर तीखी बहस हुई।
– दरअसल सत्ताधारी पार्टी को लेकर ज्वाला गुट्टा हमेशा कुछ न कुछ बयान देती रहती हैं।
– ज्वाला मौजूदा मोदी सरकार को लेकर भी हमेशा सवाल जवाब करते रहती हैं।
– एक युजर ने ज्वाला से पूछा, क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि आपकी मां चाइनीज हैं तो आप हर बार मोदी का विरोध करेंगी?
– इसके बाद ज्वाला ने जवाब दिया, ‘जब आप मेरे माता-पिता को बातचीत में शामिल कर लेते हैं..आपको उम्मीद करनी चाहिए कि आप मेरी साइड नहीं देखते! माइंड इट।’

यूजर ने दोबारा ट्वीट कर ज्वाला से पूछा ये सवाल

– यूजर ने दोबारा ट्वीट कर ज्वाला से पूछा कि आपके माता-पिता के लिए सम्मान के साथ मैं किसी पर सवाल नहीं उठा रहा हूं।
– यूजर ने कहा कि मेरा इरादा यह पता करने का है कि आखिर में वो क्या है जो शटलर को नरेंद्र मोदी विरोधी बनाता है?’
– इसके बाद नाराज ज्वाला ने जवाब दिया कि सबसे पहले मैंने आपके लिए सभी का सम्मान खो दिया है।
– फिर उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि आपको मुझसे कोई जवाब मिलेगा। दूसरा, अगर आपके पास कोई सवाल है तो सीधे पूछो!

ट्रोल हुईं ये प्लेयर, लोगों ने कहा- मां चीनी हैं इसलिए करती हैं मोदी का विरोध

ऐसी थी ज्वाला की मम्मी-पापा की लव स्टोरी

– ज्वाला के नाना त्सेंग चीनी पत्रकार थे जो सिंगापुर में एक न्यूज पेपर के एडिटर थे।
– त्सेंग की मुलाकात 1937 में महात्मा गांधी से हुई। राष्ट्रपिता के साथ त्सेंग कई महीनों तक रहे। बापू त्सेंग को प्रेम से ‘शांतिदूत’ कहते थे।
– जब बापू नहीं रहे, तो त्सेंग भी चीन लौट गए। फिर 1977 में इंडिया आए। इस बार वर्धा के सेवाग्राम में रहे और बापू की बायोग्राफी का चाइनीज में ट्रांसलेट किया।
– इस बार उनके साथ उनकी बेटी येलन भी आई थीं। येलन को यहां रहने के दौरान हैदराबाद के क्रांति गुट्‌टा से प्यार हो गया।
– दोनों ने 1982 में शादी कर ली और एक साल बाद वर्धा में ही ज्वाला का जन्म हुआ।

NEWS SOURCE-- DAINIK BHASKAR

Leave a Comment