Office में बैठे-बैठे घुटनों में हो गया दर्द तो ऐसे पाएं राहत, पढ़िए 2 मिनट में

वर्किंग प्लेस पर काम के चक्कर में जब लोगों को ना सिर्फ खाना भूल जाते हैं बल्कि अपने शरीर पर ध्यान देना भी भूल जाते हैं. दिनों-दिन बढ़ते प्रेशर के कारण ऑफिस में सुबह जाना और फिर अपनी डेस्क पर बैठे-बैठे ही नाश्ता, चाय, लंच सबकुछ निपटा लेना, ताकि देर रात तक काम ना करना पड़े. दिन भर एक जगह बैठे रहने से एक वक्त के बाद मन चिड़चिड़ा हो जाता है. मन का परेशान होना लाजिमी है, लेकिन आपके घुटनों का क्या. पैरों को एक ही पोजिशन में पूरे दिन रखने से आपके घुटनों पर इसका क्या असर पड़ेगा कभी सोचा है.

कहीं ऐसा ना हो आज के काम के चक्कर में आप अपने घुटनों के दर्द को नजरअंदाज करते रहे और बुढ़ापे में उठने के लायक ही ना रहें. माना काम जरूरी है लेकिन काम के बीच में हम 2 मिनट का वक्त तो अपने घुटनों के लिए निकाल ही सकते हैं. जी हां, ऑफिस के काम के बीच सिर्फ दो मिनट देकर आप अपने घुटनों के दर्द को ना सिर्फ खत्म कर सकते हैं बल्कि यह दोबारा ना हो इसका इलाज बिना दवाई के कर सकते हैं. तो चलिए जानते हैं कि कैसे घुटनों के दर्द से निजात पाया जाए.

ऐसे मिलेगी घुटनों के दर्द से राहत

  • जोड़ों को दर्द से बचाव के लिए आप रोजाना गुनगुने पानी से नहाइए.

  • जहां तक हो सके फास्ट फूड से तौबा करिए, क्योंकि फास्ट फूड हमारी बॉडी में कॉलेस्ट्रोल लेवल को बढ़ाते हैं. कॉलेस्ट्रोल लेवल बढ़ने के कारण हमारी बॉडी के ज्वाइंट्स पर इसका बुरा असर पड़ता है.

  • दिन में कम से कम एक बार 15 मिनट तक गर्म पानी में पैर डालें. गर्म पानी में पैर रखते वक्त इस बात का ध्यान रखिए की इस दौरान आपके पैरों पर हवा ना लगे.

  • ऑफिस में लंच ब्रेक के बाद महज 5 मिनट अपनी डेस्क के आस-पास ही सही पर टहलिए.

  • काम करते वक्त एक पोजिशन में बैठने की बजाय, पैरों को बीच-बीच में हिलाइए.

  • ऑफिस में काम करते वक्त पैरों को स्ट्रैच कीजिए. पैरों को स्ट्रैच करने से नसें खिंचती है, जिसके कारण घुटनों में होने वाले दर्द से राहत मिलती है.

पैदल चलना भी है जरूरी
ऑफिस के बाद अगर संभव हो तो गाड़ी में पूरा सफर तय करने की बजाय कुछ दूर पैदल चलें. पैैदल चलने से ना सिर्फ आपके घुटनों को दर्द से राहत मिलती है बल्कि आपके पैरों को तलवा भी आराम महसूस करता है. देखा जाए तो पैर का सीधा कनेक्शन हमारे दिमाग से हैं. अगर घुटनों में दर्द रहेगा तो दिमाग का ध्यान सिर्फ उसी पर रहेगा. इसलिए जरूरी है कि पहले अपनी देखभाल की जाए ताकि दिमाग ऑफिस में पूरी तरह से लग सके.

NEWS SOURCE-- DAINIK BHASKAR