पकौड़े में भी पैसा है, पीएम मोदी ने गलत तो नहीं कहा

हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था- ‘पगार वाली नौकरी नहीं तो क्या पकौड़े तो बेच ही सकते हैं।’ पीएम के ये कहते ही बवाल मच गया। गुस्सा जताने के लिए छात्रों ने जगह-जगह पकौड़े बेचने शुरू कर दिए। लेकिन कुछ छात्र वाकई में पकौड़े बेचकर लाखों कमा रहे हैं….और स्टूडेंट भी ऐसी वैसी जगहों के नहीं..IIM और IIT के….

IIT के स्टूडेंट बेच रहे पकौड़े

आईआईटी से पढ़ाई… अमेरिका में अच्छी नौकरी… लेकिन इन दोंनों तय किया कि अब पकौड़े बेचेंगे। ये बेचते हैं बारिश वाले पकौड़े। मेन्यू में चाय, कई तरह के बर्गर और चाट भी है। आज देश भर में इनके 40 से ज्यादा स्टोर है। नाम है चायोस। चेन में 600 से ज्यादा लोग काम करते हैं और ऑर्डर ऑनलाइन भी लिये जाते हैं। इस साल इनके स्टोर्स की संख्या बढ़कर 75 हो सकती है। इसे शुरू किया आईआईटी, मुंबई से पढ़ाई करने वाले सलूजा और आईआईटी, दिल्ली से पढ़ाई करने वाले राघव वर्मा ने। इनका दावा है कि चाय 12 हजार फ्लेवर में बनाई जा सकती है। चायोस आम पापड़ चाय से लेकर हरि मिर्च चाय तक मिलती है।

IIM(A) के स्टूडेंट बेचते हैं इडली, समोसा

आईआईएम अहमदाबाद से पढ़े ई शरथबाबू ने इडली की दुकान खोली। पूंजी थी महज 2 हजार रुपए। आज ये एक कामयाब चेन है, जिसे दुनिया फूडकिंग के नाम से जानती है। मेन्यू में अब इडली के साथ-साथ बाकी स्नैक्स भी आ गये हैं…ई शरथ बाबू की मां कभी चेन्नई में घूम-घूमकर इडली बेचती थीं. इसी कमाई से उन्होंने अपने बच्चों को पढ़ाया। बिट्स, पिलानी से पढ़ाई करने के बाद शरथ बाबू ने आईआईएम अहमदाबाद से मैनेंजमेंट पढ़ा। अच्छी नौकरियां मिल रही थीं लेकिन उन्होंने अपनी दुकान खोली। शरथबाबू ने ‘हंगर फ्री इंडिया’ नाम से एक मुहिम भी चलाई। शरथ तमिलनाडु से कई चुनाव भी लड़ चुके हैं..

 

NEWS SOURCE-- DAINIK BHASKAR