इन 16 स्मार्टफोन से निकल रहा है खतरनाक रेडिएशन, आप कौन सा कर रहे यूज

रेडिएशन प्रोटेक्शन के German Federal Office ने 16 फोन की लिस्ट जारी की है, जिनमें मोबाइल से निकलने वाले रेडिएशन की मात्रा बहुत ज्यादा है। यह कंपनी स्मार्टफोन्स से निकलने वाले रेडिएशन का डाटाबेस मेनटेन करके रखती है।

हालांकि अभी तक फोन से निकलने वाला कितना रेडिएशन खतरनाक होता है इसकी कोई यूनिवर्सल गाइडलाइन नहीं है। लेकिन जर्मन फर्म ब्लू एंजल सिर्फ उन स्मार्टफोन्स को सर्टिफाइड करता है जो 0.60 किलोग्राम पर वाट से कम रेडिएशन करते हैं।

डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकॉम गर्वनमेंट ऑफ इंडिया के 2012 के डाटा के अनुसार इंडिया में मोबाइल से निकलने वाले रेडिएशन की लिमिट 1.6 वाट पर किलोग्राम रखी गई है। इससे ज्यादा रेडिएशन होने पर इसे हार्मफुल माना गया है।

जब हम इस बारे में आईटी एक्सपर्ट मंगलेश एलिया से बात की तो उन्होंने बताया कि फोन से रेडिएशन हमेशा निकलता रहता कभी ज्यादा तो कभी बहुत कम। जर्मन कंपनी ने जो रेडिएशन का स्टेंडर्ड बताया है इंडिया में भी वो इसके आस पास ही है।

उन्होंने आगे बताया कि फोन को जब चार्जिंग पर लगाते हैं तब सबसे ज्यादा रेडिएशन निकलता है। इसलिए चार्जिंग पर फोन लगाकर बात नहीं करनी चाहिए। इस लिस्ट में श्याओमी का नाम इसलिए सबसे ऊपर है क्योंकि वो कम बजट में ज्यादा फीचर वाले फोन उपलब्ध कराती है इसलिए क्वालिटी से कहीं न कहीं समझौता करना पड़ता है। ऐसा ही हाल दूसरी चीनी कंपनियों का भी है।

आपको बता दें कि अभी हानिकारक रेडिएशन निकालने वाले फोन्स कि जो लिस्ट सामने आई है उसमें चीनी स्मार्टफोन कंपनियों के फोन सबसे ज्यादा और सबसे ऊपर के पायदान पर है। पहले नंबर पर श्याओमी का Mi A1 है। इसमें किसी भी इंडियन कंपनी का मोबाइल नहीं है। ये सभी फोन इंडिया में भी उपलब्ध हैं।

16 में से 10 चीनी कंपनियों के फोन है जिसमें Huawei, oneplus आदि शामिल है। अमेरिकन कंपनियों के फोन भी इसमें है।अगर आप भी इन फोन में से किसी फोन को यूज कर रहे हैं तो ध्यान रखें। फोन निकलने वाले रेडिएशन से स्किन डिसीज से लेकर ब्रेन ट्यूमर तक होने के चांजेस होते हैं।

आईटी एक्सपर्ट के अनुसार रेडिएशन से बचने के लिए ये काम करने चाहिए।

1 फोन जब चार्जिंग पर लगा हो बात न करें।

2 फोन को तकिए के नीचे रखकर न सोएं

3 रात में सोने के ठीक पहले फोन यूज न करें ।

4 फोन के गर्म होने पर उसका यूज न करें।

 

NEWS SOURCE-- DAINIK BHASKAR