tech in gadgets: गोरिल्‍ला ग्‍लास: नाम पर मत जाइए लेने से पहले पूछिए नंबर

अगर आपसे पूछा जाए कि एक अच्‍छे स्‍मार्ट फोन की क्‍या खासियत होती है। तो आप बहुत सी चीजों के साथ गोरिल्‍ला ग्‍लास प्रोटेक्‍शन का जिक्र जरूर करेंगे। गोरिल्‍ला ग्‍लास से लैस स्‍मार्टफोन की स्‍क्रीन को आम फोन के मुकाबले ज्‍यादा मजबूत और टिकाऊ माना जाता है। क्‍या आपको पता है कि सिर्फ गोरिल्‍ला ग्‍लास के नाम पर बिकने वाले हर फोन की स्‍क्रीम की मजबूती एक जैसी नहीं होती है।

इस बारे में हमने टेक एक्‍सपर्ट अजेंद्र त्रिपाठी से बात की। अजेंद्र के मुताबिक, अब तक गोरिल्‍ला ग्‍लास के मार्केट में कई वर्जन आ चुके हैं। प्राय: इन्‍हें नंबर के जरिए जाना जाता है। हर नंबर की क्षमता अलग अलग होती है। इसलिए लेने से पहले इसके बारे में जानकारी जरूर कर लें। कहीं ऐसा न तो कि ज्‍यादा पैसे देने के बाद भी आपको उस क्‍वालिटी का प्रोटेक्‍शन नहीं मिल पाए, जैसा आप चाहते हैं या जैसा आपको बताया गया हो।

क्‍या है गारिल्‍ला ग्‍लास  

आम तौर पर जिस सामान्‍य मैटेरियल से स्‍मार्टफोन की स्‍क्रीन बनाई जाती है, उसकी हार्डनेस उतनी नहीं होती कि वह किसी कठोर चीज के संपर्क में आने के बाद भी वह अपनी पुरानी अवस्‍था में रह सके। आम तौर पर इसे ही स्‍क्रीन पर स्‍क्रैच आना कहते हैं। गोरिल्‍ला ग्‍लास से बनी स्‍क्रीन के बारे में दावा किया जाता है कि सामान्‍य: किसी कठोर चीज से ठकराने के बाद भी खास तरीके से कम्‍प्रेस्‍ड कांच से तैयार स्‍क्रीन को कोई नुकसान नहीं होता है। कई बार ऊंचाई से गिरने के बाद भी आपके फोन को कुछ नहीं होता है। दरअसल गोरिल्‍ला ग्‍लास कठोर और स्पेशल तरीके से बनाए गए ग्‍लास का ब्रांड है। इसे Corning  कंपनी बनाती है। इसी तरह के कठोर ग्‍लास का एक ब्रांड ड्रैगनट्रेल ग्‍लास भी है। कई अन्‍य कंपनियां कुछ और ब्रांड नेम से ऐसे ग्‍लास बनाती हैं।

कितने खरोंच सह सकता है गोरिल्‍ला ग्‍लास 

दरअसल दुनिया भर में हार्डनेस नापने का स्‍केल होता है। इस स्‍केल को mohs scale of hardness कहा जाता है। इस स्‍केल के जो पदार्थ जिनता मजबूत होता है स्‍केल में उसका नंबर उतना ही ऊपर होता है। दुनिया की सबसे कठोर धातू हीरा होती है। इसलिए इस स्‍केल पर डायमंड का नंबर 10 है। इस स्‍केल के हिसाब ब से बात करें तो गोरिल्‍ला ग्‍लास 6.5 स्‍केल के खरोंच सहन कर सकता है। मतलब जिस भी पदार्थ की हार्डनेस 6 या 6.5 होगी, गोरिल्‍ला ग्‍लास उससे टकराने या संपर्क में आने के बाद पहले वाली स्थिति में ही हरेगा। इसी लिए इसपर चाकू, सिक्‍के और कई बार गिरने का भी कोई असर नहीं होता है।

 mohs scale of hardness स्‍केल 

1

 Talc (खडिया)

2

Gypsum (जिप्सम)

3

Calcite (केल्साइट)

4

Fluorite (फ्लोराइट )

5

Apatite (एपेटाइट)

6

Orthoclase (ऑर्थोक्‍लास) 

7

Quartz  (क्वार्ट्ज) 

8

Topaz ( टोपाज) 

9

Corundum (कोरन्डम) 

10

Diamond (हीरा)

5 नंबर के ग्‍लास है मार्केट में 

अब तक 5 नंबर तक के ग्‍लास मार्केट में आ चुके हैं। हर नया वर्जन पुराने वर्जन से पतला और बेहरत होता गया है। इसका पहला वर्जन 2008 में आया था। जबकि मौजूदा दौर में इसका 5वां वर्जन या नंबर चल रहा है।

कोर्निंग गोरिल्ला ग्‍लास-2:  यह  2012 में लांच हुआ। पहले वर्जन के मुकाबले करीब 20% पतला था। जितना पतला ग्‍लास होगा, वो उसका टच उतना ही बेहतर काम करता है।

कोर्निंग गोरिल्ला ग्‍लास-3: यह एक नई तकनीक Native Damage Resistant के साथ आया। कंपनी ने दावा दावा किया कि यह नंबर-2 के मुकाबले 3 गुना पतला और मजबूत था।

कोर्निंग गोरिल्ला ग्‍लास- 4 : इसमें गोरिल्ला ग्‍लास 3 कें मुकाबले एक नई चीज स्क्रैच रेसिस्टेंट ऐड हुई। कंपनी का दावा है कि 1 मीटर की ऊंचाई से गिरने के दौरान 100 में से 80 बार आपके फोन को कई नुकसान नहीं होता है। इसे वर्जन 3 से 4 गुना ज्‍यादा मजबूत बताया गया। यह भी नंबर-3 से और पतला है।

कोर्निंग गोरिल्ला गिलास-5: सबसे लेटेस्ट गोरिल्ला ग्‍लास। इसे कोर्निंग गोरिल्ला ग्लास 4 का सक्सेसर भी कहा जाता है। कंपनी का दावा है कि यह नंबर चार से  4 गुना ज्यादा डैमेज रेसिस्टेंट, स्क्रैच रेसिस्टेंट, मजबूत और पतला है।

NEWS SOURCE-- DAINIK BHASKAR