शरीर का तापमान नियंत्रित करेगा कपड़ा, गर्मियों में ठंडा और सर्दियों में शरीर गर्म रहेगा

  • मैरीलैंड यूनिवर्सिटी की टीम के बनाए कपड़े में नैनोट्यूब का इस्तेमाल

  • नैनोट्यूब इंसानी बाल से भी हजार गुना पतले, गर्मी लगने पर ये सिकुड़ जाते हैं, ठंड बढ़ने पर फैल जाते हैं

मैरीलैंड यूनिवर्सिटी की टीम ने ऐसा कपड़ा बनाया है जो शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद करेगा। ये कपड़ा दिखने में ऊन के साधारण कपड़े की तरह ही दिखता है, लेकिन इसमें नैनोट्यूब लगे हैं। इसे बनाने वाली टीम का कहना है कि इस कपड़े की मदद से लोगों को सर्दियों और गर्मियों में अलग-अलग कपड़े चुनने की जरूरत नहीं होगी, क्योंकि ये कपड़ा शरीर के तापमान के हिसाब से एडजस्ट हो जाएगा। इस कपड़े को पहनने पर जब शरीर का तापमान गर्म होगा, तो इसके नैनोट्यूब सिकुड़ जाएंगे लेकिन जब शरीर का तापमान ठंडा रहेगा तो इसके नैनोट्यूब फैल जाएंगे। इस कपड़े की कीमत 5 डॉलर (करीब 350 रुपए) होने की उम्मीद है।

35% तक मैनेज कर सकता है तापमान

  1. यह पहली बार नहीं है, जब इस तरह का कपड़ा बनाया गया है। इससे पहले भी इस तरह के कपड़े बनाए जा चुके हैं, जो शरीर के तापमान के हिसाब से एडजस्ट हो सकें लेकिन इस तरह के कपड़े से स्पोर्ट्सवियर बनाए जाते हैं।

  2. इस कपड़े को बनाने वाली टीम का दावा है कि इस कपड़े से शरीर के तापमान को 35% तक मैनेज किया जा सकता है, जबकि बाजार में मौजूद अन्य तरह के कपड़े सिर्फ 5% तक ही तापमान मैनेज कर सकते हैं।

  3. इसे सर्दी-गर्मी दोनों में पहन सकते हैं

    इस कपड़े को ऊन से ही बनाया है, लेकिन इसके ऊपर नैनोट्यूब से कोटिंग की गई है। टीम के मुताबिक, इसके नैनोट्यूब इंसानों के बाल से भी हजार गुना पतले हैं। ये नैनोट्यूब खास तरह के कार्बन आधारित धातु से बने हैं। इसे बनाने वाली टीम ने बताया कि जैसे ही शरीर का तापमान बढ़ता है या पसीना निकलता है, वैसे ही नैनोट्यूब सिकुड़ जाते हैं जिससे इलेक्ट्रिक चार्ज पैदा होता है और शरीर की गर्मी बाहर निकल जाती है।

  4. इसी तरह से जब शरीर का तापमान कम होता है, तो नैनोट्यूब फैल जाते हैं और बाहर की हवा को अंदर आने से रोकते हैं। टीम के मुताबिक, इस कपड़े के लिए न ही किसी तरह की बिजली की जरूरत होती है और न ही बैटरी की। ये कपड़ा फिजिक्स पर काम करता है।

  5. बार-बार कपड़े पहनने या उतारने की जरूरत नहीं होगी

    इस कपड़े को तैयार करने वाली टीम में शामिल मैरीलैंड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर मिन ओउयांग का कहना है कि इस कपड़े को लोगों के कम्फर्ट के लिए बनाया गया है। उन्होंने कहा, ‘”इस कपड़े की मदद से लोगों को बार-बार कपड़े पहनने या उतारने की जरूरत नहीं होगी। अगर आप ऑफिस में हैं और आपको गर्मी लग रही है तो आपको अपने कमरे का एसी चालू करने की जरूरत नहीं है। ये कपड़ा आपके लिए आपके शरीर का तापमान नियंत्रित कर सकता है।’’

NEWS SOURCE-- DAINIK BHASKAR