112 महीने में पैसा हो जाएगा डबल, मोदी सरकार ने बढ़ाई ब्याज दर

अगर आप अपना पैसा डबल करना चाहते हैं तो पोस्‍ट ऑफिस की किसान विकास पत्र (KVP) बचत स्‍कीम आपके लिए बेहतर विकल्‍प हो सकती है। यह स्‍कीम मात्र 112 महीने में आपके निवेश को डबल कर देती है। आइए जानते हैं आखिर इस स्‍कीम में निवेश कैसे करेंगे। इसके बेनिफिट क्‍या हैं और कौन इसमें निवेश कर सकता है।

क्‍या है किसान विकास पत्र ? 
Kisan Vikas Patra एक तरह का प्रमाण पत्र होता है, जिसे कोई भी व्‍यक्ति खरीद सकता है। इसे बॉन्‍ड की तरह प्रमाण पत्र रूप में जारी किया जाता है।  इस पर एक तय शुदा ब्‍याज मिलती है। ब्‍याज दर समय समय पर सरकार संशोधित करती रहती है। इसे देश भर में फैले डाक घरों से खरीदा जा सकता है। मोदी सरकार ने 1 जनवरी 2019 से इसपर ब्याज बढ़ा कर 7.7 फीसदी कर दिया। इससे पहले इस स्कीम पर 7.3 फीसदी ही ब्याज मिलता था।

साथ में और कौन सी सुविधाएं मिलती हैं ? 
इस सरकारी योजना में आपके पास नॉमिनेशन की भी सुविधा मौजूद होती है। एक व्‍यक्ति से दूसरे व्‍यक्ति को यह सर्टिफिकेट ट्रांसफर किया जा सकता है। एक पोस्‍ट ऑफिस से दूसरे पोस्‍ट ऑफिस में भी इसे ट्रांसफर किया जा सकता है। इसे देश के कुछ बैंकों से भी ऑनलाइन तरीके से खरीदा जा सकता है।

कितनी राशि निवेश कर सकते हैं ?  
किसान विकास पत्र में निवेश करने की कोई मैक्सिमम लिमिट नहीं है। हालांकि आपका न्‍यूनतम निवेश 1000 रुपए का होना चाहिए। आप 1000 रुपए के मल्टीपल में कितनी भी राशि निवेश कर सकते हैं। मतलब आप 1500 या 2500 या 3500 का निवेश नहीं कर सकते हैं। यहां निवेेश 1 हजार, 2 हजार और 3 हजार के क्रम में होगा।

कौन खरीद सकता है इसे  ?
जैसा की ऊपर बताया गया है कि देश में फैले डाक घर की किसी भी ब्रांच से आप किसान विकास पत्र खरीद सकते हैं। आप किसी बच्‍चे यानी माइनर के लिए भी इसे खरीद सकते हैं। 2 लोगों के नाम पर भी इसे खरीदा जा सकता है।

कितने समय बाद निकाल सकते हैं पैसा 
अगर आप अपना निवेश निकालना चाहते हैं तो आपको कम से कम 2.5 साल का इंतजार करना होगा। हालांकि फाइनेंशियल एक्‍सर्ट इसमें लंबे समय के निवेश की सलाह देते हैं।

कितने समय में डबल होता है पैसा ? 
अगर आप किसान विकास पत्र में पैसा लगाते हैं तो यह मौजूदा के 7.7 फीसदी की सलाना ब्‍याज दर के हिसाब से 112 महीनों यानी 9 साल और 4 महीने में डबल हो सकता है।

कौन से चाहिए डॉक्‍यूमेंट ? 

2 पासपोर्ट साइज फोटो
पहचान पत्र (राशन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट आदि..)
निवास प्रमाण पत्र (बिजली बिल, टेलिफोन बिल, बैंक पासबुक आदि..)
अगर आपका निवेश 50 हजार से ज्‍यादा है ता इस आवस्‍था में पैन कार्ड जरूरी होगा।
आधार कार्ड (अक्‍टूबर 2017 में सरकार ने इसे अनिवार्य किया)

क्‍या इन्‍हें ऑनलाइन भी ले सकते हैं ? 
1 अप्रैल 2016 से National Saving Certificate (NSC) और किसान विकास पत्र (KVP) इलेक्‍ट्रॉनिक फार्म के रूप में भी मिलने शुरू हो गए हैं। इसके पहले यह सिर्फ छपे हुए प्रमाणपत्र (Printed Certificate) के रूप में मिलते थे। हालांकि,  जो Bank या Post Office कोर-बैकिंग से नहीं जुड़े हुए हैं, उन्हें Printed Certificate जारी करने की छूट दी गई है।

क्‍या लोन के लिए भी हो सकता है यूज  ?
लोन अप्‍लाई करते समय किसान विकास पत्र का इस्‍तेमाल कोलैट्रल के रूप में यूज किया जा सकता है। लोन जारी करने से पहले देश के ज्‍यादातर बैंक और फाइनेंशियल इंस्‍टीट्यूशन यह सर्टिफिकेट कालैट्रल के रूप में स्‍वीकार करते हैं।

टैक्‍स बेनिफिट भी मिलता है क्‍या?  
इंडिया पोस्ट डॉट कॉम की वेबसाइट के मुताबिक, किसान विकास पत्र पर आपको टैक्‍स बेनिफिट भी मिलता है। इस स्‍कीम में सोर्स पर टैक्‍स नहीं कटता है। मतलब आपको मच्‍योरिटी का पैसा टीडीएस काट के नहीं दिया जाता है। साथ ही यह स्‍कीम वेल्‍थ टैक्‍स के दायरे में भी नहीं आती है। हालांकि आप 80c के तहत इसमें छूट नहीं हासिल कर सकते हैं।

NEWS SOURCE-- DAINIK BHASKAR